रक्षाबंधन विशेषः भूलकर भी अपने भाई को ना बांधें ऐसी राखी, वरना..

0 434

लंबे समय के बाद इस बार रक्षाबंधन के दिन बन रहा विशेष संयोग बन रहा है। इस साल सावन के आखिरी सोमवार पर सावन पूर्णिमा व श्रवण नक्षत्र का महासंयोग बन रहा है। यह बहुत ही उत्तम संयोग है।

ये भी पढ़ें..विराट कोहली की गिरफ्तारी के लिए याचिका दायर, जानें पूरा मामला

Raksha Bandhan 2020: कब है रक्षाबंधन? जानें ...

दरअसल 3 अगस्त को श्रावण मास की पूर्णिमा को रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाएगा। भाई की लंबी आयु और सुख-समृद्धि की कामना के लिए बहनें भाई की कलाई पर राखी बांधती हैं। हालांकि कभी-कभी अनजाने में ऐसी राखियां आ जाती हैं जो शुभ नहीं मानी जाती हैं। इसलिए राखी का चुनाव बहुत ध्यान से करना चाहिए।

रक्षाबंधन के दिन कुछ खास तरह की राखी बांधने से बचे

इस समय बाजार में तरह-तरह की डिजाइन की कई राखियां मिल रही हैं। खासतौर से चीन से आने वाली राखियां दिखने में सुंदर तो लगती हैं लेकिन ये भारतीय सभ्यता के हिसाब से नहीं बनी होती हैं। रक्षाबंधन के दिन कुछ खास तरह की राखी बांधने से बचना चाहिए। ज्योतिर्विद प्रतीक भट्ट से जानते हैं कि रक्षाबंधन के दिन किस तरह की राखी नहीं बांधनी चाहिए।

Raksha bandhan 2018: Significance, History (Story) and Importance ...

इन बातों का रखें ध्यान…

दरअसल जाने-अनजाने में बाजार से राखियां लाने में टूट जाती हैं और हम उसे वापस जोड़कर सही कर लेते हैं। अगर कोई राखी खंडित हो जाए तो उसका प्रयोग भाई की कलाई पर ना करें।

Related News
1 of 1,381

चीन से आने वाली प्लास्टिक की राखियों का इस्तेमाल ना करें क्योंकि प्लास्टिक को केतु का पदार्थ माना जाता है और ये अपयश को बढ़ाता है। इसलिए रक्षाबंधन के दिन प्लास्टिक की राखियों से बचें।

बाजार में कई तरह की डिजाइनर राखियां आ रही हैं जो भारतीय सभ्यता के हिसाब से सही नहीं बनाई जा रही हैं। इनके प्रयोग से बचें।

Raksha Bandhan 2019 Tie Evening Shubh Muhurt News In Hindi ...

राखी ऐसी नहीं होनी चाहिए जिसमें कोई धारधार या किसी तरह का कोई हथियार बना हो।

कई राखियों में भगवान के चित्र बने होते हैं। इस तरह की राखियों को शुभ नहीं माना जाता है। बहनों को इस तरह की राखी खरीदने से बचना चाहिए।

बहनें कोशिश करें कि रेशम से बनी, कलावे की या सूती की राखी का प्रयोग करें। इस तरह की राखी बांधने से भाइयों के यश में वृद्धि होती है।

भले ही कपास या सूत का धागा ही हो लेकिन प्लास्टिक की राखियों से बचें।

कुछ राखियों में बहुत वर्क किया गया होता है। लोहे का वर्क की हुई राखियां भी खरीदने से बचें।

ये भी पढ़ें..BJP विधायक के भाई के घर चल रहा था जिस्मफरोशी का धंधा, whatsapp पर होता था लड़कियों का सौदा

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...
नई खबर पढ़ने के लिए अपना ईमेल रजिस्टर करे !
आप कभी भी इस सेवा को बंद कर सकते है |

 

 

शहर  चुने 

Lucknow
अन्य शहर