दिल्ली शराब घोटाला: सिसोदिया को बड़ा झटका, कोर्ट ने 4 मार्च तक CBI रिमांड पर भेजा

0 141

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया को सीबीआई ने रविवार दिन को आठ घंटे की मैराथन पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया। जिसके बाद आज सोमवार को राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट में सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों के बीच जोरदार बहस हुई। जहां सीबीआई अपनी दलीलों के माध्यम से कोर्ट से सिसोदिया को 5 दिन रिमांड में भेजने की मांग कर रही थी वहीं सिसोदिया की तरफ से पेश हुए तीनों वकीलों की कोशिश थी कि किसी भी तरह सीबीआई को रिमांड न मिले और उन्हें जमानत पर छोड़ दिया जाए। दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद कोर्ट ने मनीष सिसोदिया को 5 दिन की सीबीआई रिमांड पर भेज दिया।

ये भी पढ़ें..उमेश पाल हत्याकांड: अतीक का बेटा दाग रहा था गोलियां, मर्डर में सामने आया BJP नेता के भाई का नाम

सुनवाई के दौरान सीबीआई की तरफ पेश वकील ने कोर्ट में कहा कि दिल्ली आबकारी विभाग के मंत्री मनीष सिसोदिया हैं लेकिन जांच में वह सहयोग नहीं कर रहे हैं और इसीलिए उन्हें गिरफ्तार किया गया है। वकील ने कहा कि जब नई आबकारी नीति बनाई जा रही थी उस समय मनीष सिसोदिया ने कई बार अपने फ़ोन बदले और सबूतों को नष्ट करने की भी कोशिश की। इसके साथ ही उन्होंने नई शराब नीतियों से अपने करीबियों को फायदा पहुंचाया है।

Manish Sisodia arrested in  liquor scam case

इसके साथ ही वकील ने कोर्ट में कहा कि नीति के पास और लागू होने से पहले शराब के कुछ निजी कारोबारियों को इसका नोट भेज दिया गया था। सीबीआई के वकील ने दलील दी कि इस मामले में घोटाला हुआ है और इसे बड़े ही शातिराना अंदाज में अंजाम दिया गया। वकील ने कहा कि जांच के दौरान जब मनीष सिसोदिया से पूछा गया कि उन्होंने नई शराब नीति में प्रॉफिट शेयर 5% से बढ़ाकर 12% क्यों तो उन्होंने इसका कोई जवाब नहीं दिया। सीबीआई ने कहा कि आगे की जांच और पूछताछ के लिए उन्हें मनीष सिसोदिया को रिमांड पर लेने की आवश्यकता है। सीबीआई की इन दलीलों को कोर्ट ने मान लिया और मनीष सिसोदिया को 5 दिन की रिमांड पर भेज दिया।

सिसोदिया के वकीलों ने पेश की ये दलील
Related News
1 of 584

मनीष सिसोदिया के बचाव के लिए राउज एवेन्यू कोर्ट में 3 वकील पेश हुए। तीनों वकीलों ने बारी-बारी से अपनी दलीलें पेश की। मनीष सिसोदिया के वकील दयानंद कृषणन ने कोर्ट में दलील देते हुए कहा कि नई शराब नीति को दिल्ली के उपराज्यपाल ने ही मंजूरी दी थी और बाद में उन्होंने ही केस दर्ज करने का आदेश दिया। उन्होंने कहा कि सीबीआई जो जवाब सुनना चाहती है अगर वह जवाब सिसोदिया नहीं दे रहे हैं तो इसका यह मतलब नहीं है कि सिसोदिया जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एजेंसी को जांच के दौरान उनके घर और ऑफिस में कुछ भी नहीं मिला है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सिसोदिया का फ़ोन सीबीआई के पास ही है।

वकील बोले-सिसोदिया जांच में कर रहे पूरा सहयोग

वहीं दूसरे वकील ने कहा कि अपने बचाव का पूरा अधिकार है। उन्होंने कहा कि यह केस बदला लेने के लिए दायर किया गया है। इसके साथ ही वे हर नोटिस पर हाजिर हुए हैं। सिसोदिया जांच में पूरा सहयोग कर रहे हैं, इसलिए सीबीआई के पास उनकी रिमांड लेने का कोई अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि नई शराब नीति पूरी तरह से पारदर्शी थी। यह नीति पब्लिक डोमेन में थी। इसमें कुछ भी छुपा हुआ नहीं था। इस नीति को एलजी ने ही मंजूर किया था और अब वहीं मामले में गड़बड़ी की बात कहते हुए जांच करा रहे हैं। वकील ने कहा कि सीबीआई प्रॉफिट मार्जिन के बढ़ाये जाने पर रिमांड की मांग कर रहे हैं जोकि उपराज्यपाल ने मंजूरी दी थी। उन्होंने कहा कि एलजी ने ही नई शराब नीति को मंजूर किया था और उन्होंने इसमें बदलाव का कोई भी सुझाव नहीं दिया था।

ये भी पढ़ें..कैंसर से खराब हो गया था प्राइवेट पार्ट, डॉक्टरों ने हाथ पर ही बना दिया नया ‘लिंग,’ लोग हैरान

ये भी पढ़ें.नम्रता मल्ला की हॉट क्लिप ने बढ़ाया सोशल मीडिया का पारा, बेली डांस कर लूट ली महफिल

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं…)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...