PM मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने पहुंचे कॉमेडियन श्याम रंगीला का पर्चा खारिज, बताई वजह…

155

वाराणसी लोकसभा सीट से हास्य कलाकार श्याम रंगीला उर्फ श्याम सुंदर (Shyam Rangeela ) का नामांकन बुधवार को खारिज हो गया। काफी मेहनत के बाद वह निर्दलीय नामांकन दाखिल करने में सफल रहे। बताया जा रहा है कि शपथ पत्र जमा नहीं करने के कारण श्याम रंगीला का नामांकन खारिज कर दिया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रंगीला ने अपना नामांकन खारिज होने पर निराशा व्यक्त की है और कहा है कि कॉमेडी उनके लिए बेहतर है और राजनीति उनके बस की बात नहीं है।

श्याम रंगीला ने लगाया गंभीर आरोप

आपको बता दें कि हाल ही में श्याम रंगीला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ वाराणसी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने का ऐलान किया था।
काफी जद्दोजहद के बाद श्याम रंगीला वाराणसी लोकसभा सीट से नामांकन दाखिल करने में सफल रहे। इसके लिए उन्होंने लगातार सोशल मीडिया पर पोस्ट किए। नामांकन खारिज होने के बाद रंगीला ने वाराणसी जिला प्रशासन पर प्रक्रिया को भ्रमित करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि हमने सभी कागजात और महत्वपूर्ण विषयों को ध्यान में रखते हुए नामांकन दाखिल किया था लेकिन अब हमें बताया गया कि हमने नामांकन के दौरान दिया गया शपथ पत्र पूरा नहीं भरा है। इस कारण फॉर्म रिजेक्ट कर दिया गया।

रंगीला ने अपना नामांकन खारिज होने पर दुख जताया है। उन्होंने कहा कि मैं एक कलाकार हूं लेकिन कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं हूं। मुझे लगता है कि कॉमेडी मेरे लिए बेहतर क्षेत्र है। निराश होकर श्याम रंगीला ने कहा कि राजनीति मेरे बस की बात नहीं है। आपको बता दें कि श्याम रंगीला को वाराणसी में पूर्व अधिकारी और आजाद अधिकार सेना प्रमुख अमिताभ ठाकुर ने भी समर्थन दिया था।

श्याम रंगीला ने बयां किया दर्द

Related News
1 of 1,304

श्याम रंगीला जब वाराणसी से नामांकन दाखिल करने पहुंचे तो पहले दिन उन्हें सफलता नहीं मिली। इसके बाद अगले दिन जब वह दुबई से आए एनआरआई इकबाल समेत 50 से अधिक लोगों के साथ सुबह 9.15 बजे कलक्ट्रेट पहुंचे तो पीएम मोदी के नामांकन के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था का हवाला देकर सभी को दोपहर में आने को कहा गया। पीएम मोदी के नामांकन के बाद सुरक्षा व्यवस्था हटते ही सभी लोग नामांकन दाखिल करने के लिए कलक्ट्रेट पहुंचे, लेकिन गेट बंद था और उन्हें अंदर नहीं जाने दिया गया।

कुल 41 उम्मीदवारों ने भरा फॉर्म

कई दिनों तक कोशिश करने के बाद भी नामांकन से रोके जाने की शिकायत श्याम रंगीला ने स्थानीय चुनाव अधिकारी से लेकर राज्य और मुख्य चुनाव अधिकारी तक की। इसके बाद नामांकन करने आये लोगों के लिए समाहरणालय का गेट खोल दिया गया। बड़ी संख्या में नामांकन होने के कारण शाम तक नामांकन प्रक्रिया चलती रही। नामांकन के आखिरी दिन पीएम मोदी समेत 27 उम्मीदवारों ने अपना नामांकन दाखिल किया। उनमें से अधिकांश स्वतंत्र हैं। कुल 41 अभ्यर्थियों ने फॉर्म भरा है।

ये भी पढ़ें..कमल बनकर अब्बास ने युवती को फंसाया, फिर रेप कर बनाया धर्मांतरण का दबाव, विरोध पर श्रद्धा की तरह टूकड़े करने की दी धमकी

ये भी पढ़ें.नम्रता मल्ला की हॉट क्लिप ने बढ़ाया सोशल मीडिया का पारा, बेली डांस कर लूट ली महफिल

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं…)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...