लंबे समय से ED के रडार पर थे पार्थ चटर्जी, अर्पिता से इस नंबर पर होती थी सीक्रेट चैट

0 112

पश्चिम बंगाल में पहले अर्पिता मुखर्जी नाम की महिला के घर प्रवर्तन निदेशालय (ED) का छापा पड़ा. 21 करोड़ कैश बरामद हुए तो मामले के तार बंगाल के पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी से जुड़ गए. आखिरकार शनिवार सुबह ईडी ने पार्थ चटर्जी को गिरफ्तार कर लिया. हालांकि गिरफ्तारी के थोड़ी देर बाद सीने में दर्द की शिकायत के बाद पार्थ चटर्जी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. फिलहाल, पार्थ दो दिनों की हिरासत में हैं. सोमवार को उन्हें पीएमएलए कोर्ट में पेश किया जाएगा.

ये भी पढ़ें..मौलाना का शर्मनाक बयान, कहा- ‘मांस की बढ़ती कीमतों के लिए महिलाओं की जांघें जिम्मेदार’

ममता बनर्जी कैबिनेट के कद्दावर मंत्री पार्थ चटर्जी पर प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई का मामला सुर्खियों में बना हुआ है. इस हाई प्रोफाइल मामले में अब बड़ा खुलासा हुआ है. पार्थ चटर्जी की घोटाले में संलिप्तता को लेकर प्रवर्तन निदेशालय पहले से ही एक्टिव था. यह भी सामने आया है कि ईडी पार्थ चटर्जी की 14 दिन की रिमांड भी मांगना चाहता था. ईडी ने कोलकाता की स्पेशल कोर्ट में पार्थ चटर्जी की 14 दिन की रिमांड की मांग की थी. ईडी ने कोर्ट को बताया था कि उसने कोलकाता हाइकोर्ट के आदेश पर सीबीआई द्वारा दर्ज एफआईआर को आधार बनाकर 24 जून 2022 को एक ECIR दर्ज की थी.

partha chatterjee

कोलकाता में प्राइमरी टीचर्स की भर्ती में घोटाले को लेकर आरोपियों पर FIR दर्ज की गई थी. इस मामले में कोलकाता हाइकोर्ट ने गैरकानूनी तरीके से नॉन टीचिंग स्टाफ ग्रुप C और D, इसके साथ ही 9 से 12 तक के टीचिंग स्टॉफ की भर्ती के सीबीआई से जांच कराने के आदेश दिए थे. इन सभी भर्तियों को वेस्ट बंगाल सेंट्रल स्कूल सर्विस कमीशन और वेस्ट बंगाल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन कराते हैं.

हाइकोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई ने पार्थ चटर्जी को जांच में शामिल होने के लिए बुलाया था. कोलकाता हाइकोर्ट ने अपने अलग-अलग आदेश में साफ किया है कि असिस्टेंट टीचर्स की पूरी भर्ती प्रक्रिया गैरकानूनी थी. ईडी को भी कई सारी शिकायतें मिल रही थीं. जिसमें आरोप लगाया जा रहा था कि तत्कालीन शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर सरकारी नौकरियों को बेचकर (जिसमे प्राइमरी टीचर्स और असिस्टेंट टीचर्स शामिल थे) काफी मोटा पैसा बनाया है. इन पैसों को अलग-अलग लोगों की कंपनियों के नाम पर खपाया गया है.

Related News
1 of 914

ऐसे सामने आया अर्पिता का नाम

जांच आगे बढ़ी तो पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी का नाम सामने आया, जिसने उनका पैसा ठिकाने लगाया था. ED ने पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी समेत अन्य लोगों के ठिकानों पर छापेमारी की. सर्च के दौरान पार्थ चटर्जी के घर से कई अचल सम्पति से जुड़े आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद हुए. ये संपत्तियां अर्पिता मुखर्जी या उसकी कंपनी के नाम पर थीं.

इसके अलावा ग्रुप D स्टाफ की नियुक्ति से जुड़े दस्तावेज भी पार्थ चटर्जी के घर से बरामद किये गए. जिनमें 2016 में हुई ग्रुप D की भर्ती के उम्मीदवार के एडमिट कार्ड, उसके फाइनल रिजल्ट की समरी, 48 अपर प्राइमरी टीचर्स के उम्मीदवारों की रोल नंबर समेत लिस्ट भी बरामद हुई. इससे यह स्पष्ट हो गया कि पार्थ चटर्जी ग्रुप D की भर्ती प्रक्रिया में पूरी तरह सक्रिय थे.जांच के दौरान जब ED ने अर्पिता मुखर्जी के डायमंड सिटी साउथ के टावर 2 के फ्लैट में सर्च की तो वहां से करीब 20 करोड़ कैश मिला. जो कि कक्षा 9 से 12 तक के असिस्टेंट टीचर्स की गैरकानूनी भर्ती के जरिये कमाया गया पैसा है.

ये भी पढ़ें..शिक्षक ने साथियों के साथ मिलकर नाबालिग छात्रा के साथ किया दुष्कर्म, दी जान से मारने की धमकी

ये भी पढ़ें..लखनऊ के लूलू मॉल में नमाज पढ़ने का Video वायरल, हिंदू संगठन ने दी धमकी

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं…)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...
नई खबर पढ़ने के लिए अपना ईमेल रजिस्टर करे !
आप कभी भी इस सेवा को बंद कर सकते है |
busty ebony ts pounding studs asshole.anal sex

 

 

शहर  चुने 

Lucknow
अन्य शहर