‘बालिका वधू’ को 12 साल बाद मिली आजादी, 7 वर्ष की उम्र में हो गई थी शादी

0 65

राजस्थान के भीलवाड़ा जिले की 19 वर्षीय ‘बालिका वधू’ ने महज सात साल की उम्र में शादी कर ली थी और आखिरकार 12 साल बाद बाल विवाह के चंगुल से छूट गई। दरअसल बाल वधू मानसी ने भीलवाड़ा में फैमिली कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था और अपने बाल विवाह को रद्द करने की गुहार लगाई थी। परिवार न्यायालय के न्यायाधीश हरिवल्लभ खत्री ने उनकी दुर्दशा सुनकर संवेदनशीलता दिखाई और मानसी के बाल विवाह को रद्द करने का ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए बाल विवाह के खिलाफ कड़ा संदेश दिया।

ये भी पढ़ें..कभी वीरता पदक से सम्‍मानित हुआ था इंस्‍पेक्‍टर, अब गिरफ्तारी के लिए इनाम…

2009 में हुई थी शादी

बता दें कि मूल रूप से भीलवाड़ा जिले के पालड़ी की रहने वाली मानसी की शादी सात साल की उम्र में 2009 में बनाड़ा तहसील के रहने वाले एक लड़के से हुई थी। करीब 12 साल तक उन्हें बाल विवाह का खामियाजा भुगतना पड़ा। इस दौरान ‘पंचायत’ और अन्य जाति की ओर से करवाने के लिए लगातार दबाव बनाया जाता था। परिवार को कई बार धमकी भी दी गई।

कोर्ट से लगाई थी गुहार

इस बीच मानसी ने बाल विवाह को रद्द करने के लिए सारथी ट्रस्ट के माध्यम से चलाए जा रहे डॉ. कृति भारती के अभियान के बारे में जानकारी मिलने के बाद, उनसे शादी रद्द करने के लिए संपर्क किया। डॉ. कृति जोधपुर से भीलवाड़ा आई थीं और इसी साल मार्च में मानसी के बाल विवाह रद्द करने का मामला फैमिली कोर्ट में दायर किया था। डॉ. कृति भारती मानसी के साथ भीलवाड़ा के फैमिली कोर्ट में पेश हुईं और कोर्ट को बाल विवाह से जुड़े तथ्यों से अवगत कराया गया।

Related News
1 of 832

फैमिली कोर्ट के जज हरिवल्लभ खत्री ने मानसी की शादी को रद्द करते हुए एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया, जो 12 साल पहले महज सात साल की उम्र में हुई थी। आदेश ने मानसी को बाल विवाह के बंधन से मुक्ति दिला दी। जज खत्री ने बाल विवाह के खिलाफ समाज को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि बाल विवाह का बंधन मासूम बच्चों का वर्तमान और भविष्य दोनों खराब कर देता है। मानसी ने आईएएनएस को बताया, “डॉ. कृति भारती दीदी की मदद से मुझे बाल विवाह के वनवास से मुक्ति मिली है। मैं बीए सेकेंड ईयर की पढ़ाई कर रही हूं और अब मैं आगे की पढ़ाई कर टीचर बनना चाहती हूं।

फैमिली कोर्ट से मिला न्याय

कृति भारती-पुनर्वास मनोवैज्ञानिक, प्रबंध न्यासी, सारथी ट्रस्ट, जोधपुर ने कहा,फैमिली कोर्ट भीलवाड़ा ने मानसी के बाल विवाह को रद्द करने का ऐतिहासिक फैसला दिया। माननीय न्यायाधीश हरिवल्लभ खत्री सर ने बाल विवाह के मुद्दे पर संवेदनशीलता दिखाई और शादी को रद्द कर दिया। अब हम बालिका वधू मानसी के सर्वोत्तम पुनर्वास के लिए प्रयासरत हैं।

ये भी पढ़ें..14 साल की नौकरानी से मालकिन की दरिंदगी, मेहमानों से जबरन बनवाती थी संबंध, प्रेग्नेंट होने पर खुला राज…

ये भी पढ़ें..पॉर्न फिल्में देख छोटे भाई से संबंध बनाने लगी 9वीं की छात्रा, प्रेग्नेंट होने पर खुला राज, सदमे में परिजन…

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं…)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...
नई खबर पढ़ने के लिए अपना ईमेल रजिस्टर करे !
आप कभी भी इस सेवा को बंद कर सकते है |

 

 

शहर  चुने 

Lucknow
अन्य शहर