लखनऊ से तेज कानपुर मेट्रो का काम, IIT के पास रखा गया प्रयॉरिटी कॉरिडोर का पहला पियर कैप

0 20

कानपुर–उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन द्वारा प्रदेश की औद्योगिक राजधानी कहे जाने वाले कानपुर शहर में मेट्रो परियोजना का क्रियान्वयन किया जा रहा है। कानपुर मेट्रो परियोजना के प्रयॉरिटी कॉरिडोर के सिविल निर्माण कार्य की शुरुआत मा. मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के कर-कमलों द्वारा विगत 15 नवंबर, 2019 को की गई थी।

आईआईटी, कानपुर से मोतीझील के बीच तैयार हो रहे कानपुर मेट्रो के लगभग 9 किमी. लंबे प्राथमिक सेक्शन (प्रयॉरिटी कॉरिडोर) का सिविल निर्माण कार्य लखनऊ मेट्रो परियोजना से भी तीव्र गति से किया जा रहा है। 2 मार्च, 2020 (सोमवार) को प्रातः 6.30 बजे आईआईटी, कानपुर से राष्ट्रीय शर्करा संस्थान के बीच पियर या पिलर नंबर 19 पर इस सेक्शन का पहला पियर कैप रखा गया। यूपीएमआरसी ने लखनऊ मेट्रो परियोजना के अपेक्षा कानपुर मेट्रो में यह उपलब्धि करीब 3 महीने पहले ही हासिल कर ली है, जो अपने आप में असाधारण कीर्तिमान है। यूपीएमआरसी के प्रबंध निदेशक श्री कुमार केशव ने सर्वप्रथम विधिवत पूजा-अर्चना की और इसके बाद पियर कैप को क्रेन की सहायता से निर्धारित पियर पर रखा गया।

Related News
1 of 14

दरअसल यू-गर्डर को पियर या पिलर के ऊपर रखने के लिए एक आधार दिया जाता है, जिसे पियर कैप कहा जाता है। यू-गर्डर मेट्रो के संरचनागत ढांचे की वह इकाई होती है, जिसपर मेट्रो ट्रैक बिछाया जाता है एवं यू-गर्डर और पिलर के बीच में जो हिस्सा होता है, उसे पियर कैप कहा जाता है। पियर कैप की ऊंचाई- 2 मीटर, लंबाई- 9.3 मीटर और चौड़ाई- 2.8 मीटर होती है। इस पियर कैप का वज़न लगभग 70 टन होता है।

लगभग साढ़े तीन माह के समय में ही कानपुर मेट्रो परियोजना के प्रयॉरिटी कॉरिडोर के अंतर्गत 600 से ज़्यादा पाइल्स की ख़ुदाई का काम पूरा हो चुका है और 42 पियर तैयार किए जा चुके हैं। इसके साथ-साथ समानान्तर रूप से कास्टिंग यार्ड में यू-गर्डर और पियर कैप की कास्टिंग का काम भी तेज़ी के साथ चल रहा है तथा 24 यू-गर्डर एवं 10 पियर कैप की कास्टिंग का काम भी पूरा किया जुका है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...
नई खबर पढ़ने के लिए अपना ईमेल रजिस्टर करे !
आप कभी भी इस सेवा को बंद कर सकते है |

 

 

शहर  चुने 

Lucknow
अन्य शहर