दर्दनाकः लाठी-डंडे से पीटकर पूर्व विधायक हत्या ! बेटा गंभीर

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार पूर्व विधायक की मौत हार्ट अटैक से हुई,शरीर पर चोटों के कोई निशान नहीं मिले

0 153

यूपी में खाकी और खादी का असर खत्म होता जा रहा है। इसका जीता जागता उदाहरण रविवार को लखीमपुर खीरी में देखने को मिला। दरअसल यहां जमीनी के विवाद को लेकर पूर्व विधायक व दिग्गज नेता निरवेंद्र कुमार मिश्रा उर्फ मुन्ना की हत्या कर दी गई।

ये भी पढ़ें..मिलिए, 7 साल के ‘स्पाइडर बॉय’ से जो पलक झपकते ही चढ़ जाता है दीवारों पर; Video

वह तीन बार विधायक रह चुके थे। घटना के दौरान उनके पुत्र संजीव कुमार को भी पीट-पीटकर अधमरा कर दिया गया। हालांकि पुलिस ने पूर्व विधायक के पुत्र की तहरीर पर पांच लोगों के खिलाफ हत्या की FIR दर्ज कर दो को गिरफ्तार भी कर लिया गया है।

हालांकि रविवार देर रात आई पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार पूर्व विधायक की मौत हार्ट अटैक से हुई थी। पीएम रिपोर्ट में उनके शरीर पर चोटों के कोई निशान नहीं मिले हैं।

जमीन को लेकर हुआ था विवाद…

बता दें कि लखीमपुर के थाना संपूर्णानगर क्षेत्र के त्रिकौलिया पढ़ुवा में जमीनी विवाद को लेकर दो पक्ष रविवार को दिन में ही भिड़ गए। इसमें एक पक्ष पलिया का और दूसरा पक्ष पूर्व विधायक निरवेंद्र कुमार मिश्रा उर्फ मुन्ना का है। यहां पर जमीन पर कब्जेदारी के विवाद के दौरान मारपीट भी हुई, जिसमें पूर्व विधायक की संदिग्ध हालातों में मौत हो गई। उनके पुत्र संजीव कुमार गंभीर रूप से घायल हो गए हैं।

लखीमपुर में जमीन को लेकर चले लाठी-डंडे, पूर्व विधायक निरवेंद्र कुमार मिश्रा की मौत; बेटा

इस घटना में परिवारजन ने पूर्व विधायक की हत्या करने आरोप लगाया है। पुलिस ने घटना में पूर्व विधायक के पुत्र की तहरीर पर एफआइआर दर्ज की है। पूर्व विधायक परिवार का आरोप है कि विपक्षीगण सैकड़ों हथियार से लैस लोगों को लेकर आए थे।

Related News
1 of 923
परिजनों ने की सीओ को हटाने की मांग..

हत्या के बाद नाराज परिवारीजन शव रखकर प्रदर्शन करने लगे। डीएम की ओर से सीओ को हटाने के एलान के बाद ही वे अंतिम संस्कार को तैयार हुए। रविवार देर शाम आईजी लक्ष्मी सिंह भी मौके पर पहुंचीं। उन्होंने बताया कि सीओ के खिलाफ भी तहरीर मिली है, जिसकी जांच की जाएगी।

विवादित जमीन त्रिकोलिया-पढ़ुआ तिराहे पर है। पलिया निवासी राधेश्याम गुप्ता अपने कई साथियों को लेकर रविवार को यहां कब्जा करने पहुंचे थे। मामले की जानकारी होते ही पूर्व विधायक निरवेंद्र कुमार मिश्रा अपने बेटे संजीव कुमार के साथ मौके पर पहुंचकर विरोध करने लगे, जिस पर विवाद बढ़ गया।

तीन बार रहे विधायक

करीब 75 वर्षीय निरवेंद्र कुमार मिश्रा उर्फ मुन्ना दो बार निर्दलीय तथा एक बार समाजवादी पार्टी से विधायक थे। प्रदेश में 10वीं से 12 विधानसभा में निरवेंद्र मिश्र 1989 से 1993 तक तीन बार विधायक रहे। 1989 में पहली बार निर्दलीय चुनाव जीता था। इसके बाद 1991 के चुनाव में भी निर्दलीय चुनाव जीता, वहीं, 1993 के चुनाव में सपा के टिकट पर चुनाव लड़ा और जीत हासिल की थी।

ये भी पढ़ें..सेक्स रैकेट खुलासे में फसी पुलिस, पूर्व सीओ समेत 10 पुलिसकर्मियों पर केस

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। )

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...
नई खबर पढ़ने के लिए अपना ईमेल रजिस्टर करे !
आप कभी भी इस सेवा को बंद कर सकते है |

 

 

शहर  चुने 

Lucknow
अन्य शहर