ब्रेकिंग न्यूज़

गोवा में भाई तो चेन्नई में बहन ने जीता गोल्ड, पढ़िए कौन हैं यह एथलीट ?

खास चेहरा
Typography

प्रयागराज -- उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव तिली का पूरा सोरांव प्रयागराज से निकल कर एथलेटिक की दुनिया में कमाल कर रही भाई-बहन की सुपर जोड़ी ने एक और कीर्तिमान रच दिया है।

प्रयागराज -- उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव तिली का पूरा सोरांव प्रयागराज से निकल कर एथलेटिक की दुनिया में कमाल कर रही भाई-बहन की सुपर जोड़ी ने एक और कीर्तिमान रच दिया है।

दो अलग-अलग राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाई-बहन ने गोल्ड मेडल हासिल किया है। एक ओर भाई ने लांग रेस में गोवा में 1 सिल्वर के साथ एक गोल्ड जीता है। वही, चेन्नई में बहन ने भी 10 किलोमीटर की वॉक रेस में स्वर्णिम उपलब्धि हासिल की है। 

एथलीट की दुनिया में यूपी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर इंद्रजीत पटेल ने जहां इंडियन रिकॉर्ड, एशियन रिकॉर्ड जैसी बड़ी उपलब्धियां हासिल कर पूरी दुनिया में भारतीय हुनर का डंका बजाया है । वहीं उनके  नक्शे कदम पर चलते हुए उनकी छोटी बहन रोजी पटेल ने भी अपने जौहर ट्रैक पर दिखाने शुरू कर दिए हैं। बेहद ही तेजी के साथ वह भी वर्ल्ड रैंकिंग में अपना स्थान बनाने में सफल रही है 2018-19 में जारी हुई वर्ल्ड रैंकिंग में रोजी पटेल को सातवां स्थान मिला हुआ है।

10 किलोमीटर वॉक रेस में रोजी को गोल्ड 

बता दें कि तमिलनाडु के चेन्नई स्थित जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में सोमवार को  छठवीं ओपन वाकिंग रेस चैंपियनशिप का आयोजन किया गया था । इसमें प्रयागराज की रोजी पटेल ने हिस्सा लिया था।  सुबह 6:30 बजे जब वॉक रेस शुरू हुई तो किसे पता था कि आज फिर से एक और इतिहास रचा जाने वाला है। रोजी पटेल ने 10 किलोमीटर की वॉक रेस को 53 मिनट में पूरा कर पहला स्थान प्राप्त किया। प्रतियोगिता में उन्हें गोल्ड मेडल मिला है । रोजी को गोल्ड मेडल मिलने की सूचना  जैसे ही उनके गांव तिली का पूरा सोरांव पहुंची परिजनों में जश्न शुरू हो गया । पिता विजय बहादुर पटेल व मां निर्मला देवी ने कहा इनके बच्चे देश का नाम रोशन कर रहे हैं। इससे ज्यादा उनके लिये खुशी की क्या बात हो सकती है।  

याद दिला दे की इससे पहले कोयंबटूर में आयोजित राष्ट्रीय प्रतियोगिता के दौरान भी रोजी पटेल ने ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की थी और 51 मिनट 44 सेकंड में 10 किलोमीटर की बवेक इक रेस में भी गोल्ड मेडल हासिल किया था। गौरतलब है कि दो महीने पहले ही इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ एथलेटिक्स फेडरेशन की ओर से जारी हुई व‌र्ल्ड रैंकिंग की सूची में रोजी पटेल ने अंडर-18 आयु वर्ग में भारी बढ़त हासिल करते हुए सातवीं वरीयता प्राप्त की है। जो किसी भी भारतीय एथलीट के लिए बड़ी उपलब्धि है। रोजी उत्तराखंड में कोच अनूप बिष्ट से ट्रेनिंग ले रही हैं।

5 किमी में इंद्रजीत ने जीता सोना 

वहीं गोवा में आयोजित ऑल इंडिया पीएसपीबी इंटर यूनिट एथलेटिक मीट 2019 में 10 किलोमीटर की रेस को यूपी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर अंतरराष्ट्रीय एथलीट इंद्रजीत पटेल जीत लिया है। ओएनजीसी में कार्यरत इंद्रजीत ने इस प्रतियोगिता के दो अलग-अलग इवेंट में इंद्रजीत ने हिस्सा लिया था जिसमें 10 किलोमीटर की रेस में इंद्रजीत ने सिल्वर मेडल हासिल किया। जबकि 5 किलोमीटर की रेस में अपने वर्चस्व को कायम रखते हुए उन्होंने गोल्ड मेडल जीता है। 10 किलोमीटर की दूरी इंद्रजीत ने 30 मिनट में पूरी की थी और उन्हें इस में सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा था। लेकिन, 5 किलोमीटर की रेस में वह अपने पुराने फॉर्म में नजर आए और 15 मिनट में आ रहे पूरी कर गोल्ड मेडल जीतने में सफल रहे।

हालांकि यह प्रतियोगिता 13 से  15 फरवरी के बीच आयोजित की गई थी और जैसे ही प्रतियोगिता  खत्म होकर  खिलाड़ियों को पुरस्कार मिले  आज सुबह ही  इंद्रजीत की छोटी बहन  रोजी पटेल ने भी गोल्ड मेडल जीतकर  अपना और अपने भाई का मान बढ़ा दिया ।

इंजरी से 2 साल बाद लौटे इंद्रजीत की स्वर्णिम वापसी

गोल्ड मेडल जीतने के बाद इंद्रजीत पटेल से फोन पर हुई बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि इस मेडल के लिए उन्होंने बहुत लंबा इंतजार किया ।क्योंकि वह पिछले 2 साल से अधिक समय से इंजरी से जूझ रहे थे । उनके घुटनों में बड़ी इंजरी हो गई थी और डॉक्टर ने उन्हें चलने फिरने से रोक दिया था। लेकिन, वह बिना दौड़े जी नहीं सकते थे । क्योंकि वह जब दौड़ते थे तब तो दर्द होता था लेकिन, जब नहीं दौड़ते थे तब बहुत ज्यादा दर्द होता था ।

इंद्रजीत ने बताया कि उन्होंने जिद पाल रखी थी कि वह वापस ट्रैक पर लौटेंगे और उनका आत्मविश्वास उन्हें बार-बार कहता था कि वह जीतेंगे। दौड़ने का जुनून बरकरार रहा और 2 साल 9 महीने 13 दिन बाद जब इंद्रजीत ने ट्रैक पर दौड़ना शुरू किया तो उनके कदम गोल्ड पर ही जाकर ठहरे । इंद्रजीत ने बताया कि उनका अगला टारगेट ओलंपिक में हिस्सा लेना होगा जिसके लिए वह तैयारी कर रहे है। 

Pin It