मंकीपॉक्स से ब्रेन में हो रहीं ये खतरनाक बीमारियां, डॉक्टरों ने बताई ये चौकाने वाली वजह

0 90

दुनिया भर में मंकीपॉक्स वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. बीते दिनों हुई कुछ रिसर्च में यह भी पता चला है कि इस वायरस से पीड़ित मरीजों में एन्सेफलाइटिस (मस्तिष्क की सूजन और सूजन का एक रूप), दौरे और भ्रम की स्थिति देखी गई है. एम्स नई दिल्ली के क्रिटिकल केयर विभाग के प्रोफेसर डॉ. युद्धवीर सिंह ने बताया कि मंकीपॉक्स से न्यूरोलॉजिकल समस्याएं हो रही हैं. इससे काम करने की क्षमता प्रभावित हुई है और भ्रम की स्थिति भी देखी जा रही है.

ये भी पढ़ें..कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे राहुल गांधी !

ये वायरस दिमाग पर असर कर रहा है. सोचने की क्षमता प्रभावित हो रही है. कई मामलों में स्ट्रोक की समस्या भी देखी गई है. इसका एक कारण Cognitive Decline हो सकता है. इसमें दिमाग में वैस्कुल सप्लाई कम हो जाती है और ब्रेन सेल्स पर असर पड़ता है. जिससे ब्रेन के काम करने की क्षमता कम होने लगती है. इसमें पहले की तुलना में किसी काम को करने में परेशानी आने लगती है.
ब्रेन फॉग भी हो रहा

डॉ. सिंह ने बताया कि मंकीपॉक्स की वजह से ब्रेन फॉग की समस्या भी देखी जा रही है. इससे किसी बात को याद करने में कई बार परेशानी होती है. याद्दाशत में कमी के लक्षण नजर आने लगते हैं. हालांकि यह देखना होगा कि ये सब वायरस की वजह से हो रहा है या पुरानी कोई बीमारी इसका कारण है. फिलहार ये सब रिसर्च का विषय है.

हालांकि, मंकीपॉक्स को एक गंभीर और गंभीर संक्रमण के रूप में नहीं दिख रहा है. इसके लक्षणों में बुखार, ठंड लगना, सूजन लिम्फ नोड्स, चकत्ते, सिरदर्द जैसी समस्या दिख रही है. फिलहाल कुछ मामलों मेंमंकीपॉक्स के घाव अब हाथ, पैर और चेहरे के अलावा गले, जननांग और मलाशय के क्षेत्रों में भी दिखाई दे रहे हैं, जिससे रोगियों को परेशानी हो रही है. मंकीपॉक्स के संक्रमण से इंसेफेलाइटिस, दौरे, जैसे परेशानियां भी देखी जा रही हैं.

हार्ट पर भी पड़ा है असर

Related News
1 of 922

कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. अजीत कुमार बताते हैं कि कई रिसर्च में पता चला है कि मंकीपॉक्स की वजह से मायोकार्डिटिस की परेशानी भी हो रही है. ये हार्ट की एक गंभीर समस्या है. इसमें हार्ट की आर्टरीज में सूजन आने लगती है. जिससे अटैक आने तक का भी खतरा रहा है. मंकीपॉक्स से पहले कोविड से भी इसी प्रकार की परेशानियां देखने को मिली है. ये वायरस शरीर के महत्वपूर्ण अंगों को काफी नुकसान पहुंचा रहे हैं.

देश में लगातार बढ़ रहे हैं मामले

पश्चिमी देशों में किए गए अध्ययनों से मंकीपॉक्स के संक्रमण के बाद लोगों का मूड खराब, चिंता और अवसाद में परिणाम सामने आए हैं. ऐसे केस लगातार बढ़ रहे हैं.ऐसा क्यों हो रहा है इसकी असल वजह जानने के लिए न्यूरोलॉजिकल और मनोरोग संबंधी प्रभावों को जानने की जरूरत है. इसके लिए कुछ रिसर्च की जानी चाहिए.

डॉ. सिंह कहते हैं कि मंकीपॉक्स एक वायरल इंफेक्शन है. इस प्रकार के वायरस से मायोकार्डिटिस हो सकता है, हालांकि मंकीपॉक्स में पहले ऐसा कम ही देखा गया है, लेकिन अब कुछ मामलों में ये हो रहा है. ऐसे में जरूरी है कि लोग अपने हार्ट की सेहत का ध्यान रखें और नियमित रूप से जांच कराते रहें.

ये भी पढ़ें..शिक्षक ने साथियों के साथ मिलकर नाबालिग छात्रा के साथ किया दुष्कर्म, दी जान से मारने की धमकी

ये भी पढ़ें..लखनऊ के लूलू मॉल में नमाज पढ़ने का Video वायरल, हिंदू संगठन ने दी धमकी

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं…)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...
नई खबर पढ़ने के लिए अपना ईमेल रजिस्टर करे !
आप कभी भी इस सेवा को बंद कर सकते है |
busty ebony ts pounding studs asshole.anal sex

 

 

शहर  चुने 

Lucknow
अन्य शहर